नपाध्यक्ष ने नगर विकास के लिए इस्पात मंत्री को सौंपा मांग पत्र भरा ज्ञापन

रमेश मित्तल /दल्लीराजहरा /

दल्ली राजहरा नगर पालिका अध्यक्ष शिबू नायर  ने दल्लीराजहरा जिसकी जनसंख्या पूर्व में लगभग एक लाख से अधिक थी वह निरंतर घटते हुए 45000 पर आ गई है दल्लीराजहरा शहर को बचाए रखने के लिए निम्नलिखित मांगों पर पूर्ण करने की कृपा करें।

1 दल्ली राजहरा में 600 करोड रुपए की लागत से प्रस्तावित पैलेट प्लांट की मंजूरी सेल बोर्ड में लंबित है इसे अतिशीघ्र स्वीकृत किया जावे कराया जिससे हितकसा डेम में जमा स्लाइम का उपयोग हो सकेगा और पर्यावरण की रक्षा भी हो सकेगी दल्ली राजहरा में रोजगार की संभावना बढ़ जाएगी भिलाई इस्पात संयंत्र को इससे पैलेट के रूप में उपयोगी अयस्क की आपूर्ति होती रहेगी जिससे भिलाई इस्पात को हो रही लौह अयस्क की कमी को भी पूरा किया जा सकेगा ।
2 नगर के बीच से स्टेट हाइवे की सड़क निकलती है जो बस्तर जिले को जोड़ती है दल्लीराजहरा सहित बस्तर कांकेर जिले में कई पहाड़ो से लौह अयस्क उत्खनन कर इसी सड़क मार्ग से ढुलाई की जाती हैं जिससे यातायात का काफी दबाव बना रहता है वही बेवजह दुर्घटना में लोग मारे जा रहे है अतः तत्काल बाईपास सड़क का निर्माण कराया जाना चाहिए ।
3 दल्ली राजहरा मे बीएसपी की 130 एकड़ भूमि में बसे पिछले 40 – 50 वर्षों से निवासरत लोगों को भूस्वामी का अधिकार प्रदान किया जाए जिसका सर्वे राज्य शासन द्वारा कराया जा चुका है लेकिन अभी तक 130 एकड़ भूमि को राज्य शासन को हस्तांतरित नहीं किया गया है इसे शीघ्र ही राजस्व विभाग को हस्तांतरित किया जाए।
4 दल्लीराजहरा रावघाट रेलवे परियोजना के अंतर्गत रेलवे ट्रेक विस्तारीकरण में प्रभवित हुए छतीस दुकानदारों की मुआवजा राशि की कार्यवाही आज पर्यन्त लंबित है सभी प्रभावित दुकानदार को मुआवजा दिलाने का आदेश दिया जावे ।
5 वार्ड नं 13 व 20 को जोड़ने वाली एकमात्र सड़क पर तीन रेल ट्रैक है उसमें दो ट्रेक बी एस पी के है वही एक ट्रेक मुख्य लाइन है जो रावघाट तक जा रही है उस ट्रेक पर ओवर ब्रिज या अंडर ब्रिज बनाया जावे ताकि आम जनता को सुविधा प्राप्त हो सके वही अनायास होने वाली दुर्घटना से भी बचा जा सकता है ।
6 सी एस आर फंड में बी एस पी के द्वारा लगभग अरबो रुपए का खनिज देने वाली व प्रतिवर्ष बालोद जिले को लगभग 100 करोड़ रॉयल्टी की राशि प्रदान की जाती है जिसमें से 10% राशि भी दल्लीराजहरा में खर्च नहीं किया जा रहा है जबकि सबसे ज्यादा रायल्टी देने वाले इस नगर को सी एस आर मद से कम से कम 50 % प्रतिशत की राशि दल्ली राजहरा के विकास के लिए स्वास्थ्य, शिक्षा, पानी सहित मूलभूत सुविधाओं में खर्च कर नगर विकास में अपनी भूमिका का निर्वहन किया जाए।
7 वही बालोद जिला अंतर्गत दल्ली राजहरा में पूर्व से प्रस्तावित केंद्रीय विद्यालय को अति शीघ्र दल्लीराजहरा में प्रारंभ किया जाए इसलिए कि पूरे बालोद जिले में केंद्रीय कर्मचारियों की संख्या सबसे ज्यादा है एवं आदिवासी बहुल होने के कारण इस ट्राइबल क्षेत्र के लोगों को इसका लाभ प्राप्त हो सकेगा वही। उजड़ते हुए शहर को संजीवनी प्राप्त हो सकेगी।
8 बी एस पी प्रबंधन के द्वारा नगर के दक्षिण दिशा में नगर प्रवेश द्वार पर विशालकाय राजहरा डेम का निर्माण किया गया था लेकिन उचित देख रेख व दल्लीराजहरा के प्रति भेदभाव के तहत आज यह डेम फाइस मिटटी के लगातार पटाव के कारण अपने अस्तित्व को खो रहा है इसको तत्काल सफाई कर पर्यटन के रूप में विकसित किया जाये ।
9 दल्लीराजहरा की समस्त माइंस में मशीनीकरण एवं प्रबंधन द्वारा स्वयं आयरन और ट्रांसपोर्टिंग तथा खनन किया जा रहा है भिलाई इस्पात संयंत्र तक रेलवे के माध्यम से परिवहन किया जा रहा है जिससे स्थानीय ट्रांसपोर्ट के समक्ष रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है अतः इस लौह अयस्क में से 33% अयस्क स्थानीय ट्रांसपोर्टरों के माध्यम से परिवहन किया जाए ताकि इन ट्रांसपोर्टरों की भी आजीविका सुचारू रूप से चल सके।
मांग पत्र सौपने वालो में साथ में संतोष देवांगन उपाध्यक्ष , रुखसाना बेगम पूर्व नगरपालिका उपाध्यक्ष ,प्रमोद तिवारी एल्डरमेन ,विजयभान पार्षद,संतोष पांडेय जिला सेवादल अध्यक्ष, रामू शर्मा ,लवली छतवाल ,राजहरा परिवहन संघ सहित अन्य लोग शामिल थे ।।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *