ऋण राशि किसानों को वापस किए जाने की घोषणा का अब असर पड़ता दिखाई दे रहा

सबका संदेश न्यूज़ छत्तीसगढ़ कसडोल- सरकार बनने के बाद पटाए गए ऋण राशि किसानों को वापस किए जाने की घोषणा का अब असर पड़ता दिखाई दे रहा है। क्षेत्र के धान खरीदी केंद्रों में किसानों की भीड़ दिखाई देने लगा है। कसडोल विकासखंड के कुल 10 प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के 16 धान खरीदी केंद्रों के माध्यम से अब कुल एक लाख 30 हजार पांच सौ क्विंटल धान कुल 26 करोड़ 84 लाख रुपये की धान खरीदी की गई है।

शासन द्वारा पहले 15 नवंबर से धान खरीदी प्रारंभ की जाती थी, लेकिन इस वर्ष चुनाव के मद्देनजर वोट बैंक की राजनीति के चलते धान खरीदी एक नवंबर से प्रारंभ कर दिया था। हालांकि सरकार ने इस साल की बोनस राशि तीन सौ प्रति क्विंटल धान बेचते ही किसानों के खाते में तत्काल डालने की घोषणा कर दी गई थी। सरकार व भाजपा के लोगों को विश्वास था कि किसानों का रूझान फिर सरकार की ओर होगा, लेकिन कांग्रेस पार्टी ने किसानों का कर्जा माफी और 2500 रुपये क्विंटल में धान खरीदी किए जाने की घोषणा का प्रदेश के लोगों पर ज्यादा असर पड़ रहा है। अन्य वर्षों की तुलना में इस साल धान फसल की कटाई अक्टूबर माह के अंत में प्रारंभ हो गई थी, लेकिन चुनाव तिथि 20 नवंबर तक किसान खरीदी केंद्रों में धान लेकर नहीं आ रहे थे। इसे कांग्रेसी नेताओं के चेहरे खिल गए और प्रदेश के लोगों द्वारा परिवर्तन के संकेत से कांग्रेस के नेताओं द्वारा किसानों को आश्वस्त किया गया कि यदि सरकार बनेगी तो जिन किसानों ने कर्जा पटा दिया है। उनकी राशि उन्हें लौटा दी जाएगी और 10 दिनों के भीतर ऋण माफी कर दी जाएगी। शायद लोगों को अब विश्वास हो गया है कि उनके द्वारा पटाए गए राशि वापस मिल जाएगी। अब धान खरीदी केंद्रों में किसानों की भीड़ नजर आने लगी है। जिला सहकारी केंद्रीय बैंक कसडोल के शाखा प्रबंधक आरके लहरी ने बताया कि बैंक के अंतर्गत 10 प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के 16 धान खरीदी केद्रों के माध्यम से अब तक कटगी में 6148, सेल में 2663, कसडोल में 7770, कुसुमसरा में 6962, छेछर में 730, मल्दा 1566, थरगांव में 26145, बिलारी में 180, गोलाझर में 4022, देवरी नगेड़ी में 7842, पीसीद में 3886, बया में 21886, बार में 14040, बोरसी में 858, मुढ़ीपार 6759, हटौद में 7034 क्विंटल इस तरह सभी केंद्रों को मिलाकर कुल 130502 क्विंटल धान 26 करोड़ 83 लाख 81 हजार 320 रुपये मूल्य की धान खरीदी की गई है।

परिवहन नहीं होने से धान जाम

विकासखंड में अब तक खरीदे गए 10502 क्विंटल धान में से मात्र 48951 क्विंटल धान का परिवहन किया गया है। संग्रहण केंद्र के लिए परिवहन करने वाले ठेकेदार द्वारा हर साल की तरह इस साल भी वन क्षेत्र के समितियों के धान का उठाव किया जा रहा है। जबकि मुख्यालय के आसपास के केंद्रों ठेकेदार द्वारा बिलकुल उठाव नहीं किया जा रहा है। मुख्यालय व आसपास के केंद्रों से मिलर्स द्वारा उठाव किया जा रहा है वह भी नहीं के बराबर, उठाव के आंकड़े पर यदि नजर डालें तो वन क्षेत्र के थरगांव, बिलारी, देवरी नगेड़ी, गोलाझर, बया व बार से सबसे ज्यादा परिवहन किया गया है। जबकि सेल, छेछर, मल्दा से परिवहन की शुरुआत नहीं हुई है। यदि खरीदे गए धान का उठाव नहीं होगा तो खरीदी केंद्रों में धान जाम हो जाने के कारण किसानों को धान खरीदी में परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

 

 

 

 

विज्ञापन समाचार हेतु सपर्क करे-9425569117/9993199117

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *