भिलाई की दीपा मेश्राम ने जीता अदा मिसेज इंडिया का खिताब

32 प्रतिभागियों को पीछे छोड़ पाया खास मुकाम

भिलाई। देहरादून उत्तराखंड में आयोजित अदा मिसेज इंडिया क्लासिक स्पर्धा में भिलाई की दीपा मेश्राम विनर रही। देश भर के विभिन्न राज्यों से पहुंचे 32 प्रतिभागियों को पीछे छोड़ दीपा मेश्राम ने यह मुकाम हासिल किया। राष्ट्रीय स्तर की इस प्रतियोगिता में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व कर जीतने के बाद दीपा अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपना परचम लहराना चाहती है। इसके लिए वे अपनी तैयारियों में जुटी हुई हैं।

अदा मिसेज इंडिया क्लासिक दीपा मेश्राम ने एक खास मुलाकात में बताया कि 2018 में भिलाई स्टील सिटी में मिसेज क्वीन विनर का खिताब जीतने के बाद लगा कि राष्ट्रीय स्तर पर अपने आप को साबित करना बड़ी चुनौती थी। नेशनल लेवल प्रतियोगिता अदा मिसेज इंडिया में सात राज्यों से 32 प्रतिभागियों ने भाग लिया था। 24 दिसंबर को आयोजित इस प्रतियोगिता में कई चरणों में हमें फरफार्मेंस देनी थी। इसमें फिटनेस, स्टाइलिंग, गु्रमिंग, बातचीत का लहजे से लेकर अलग अलग बिंदु निर्धारित थे। सभी में बेस्ट होने के बाद ही इस प्रतियोगिता को जीतने का अवसर मिला।

जेट की मौत के बाद भिलाई में बसी

मूलरूप से भोपाल की रहने वाली दीपा मेश्राम के भिलाई में आने की कहानी काफी दुखद है। दीपा मेश्राम ने बताया कि जेट व जेठानी की एक एक्सीडेंट में मौत के बाद अपने पति के साथ भिलाई आकर रहने लगी। सात साल पहले वे भिलाई अपने जेठ के बच्चों की देखभाल करने पहुंची और यहीं की होकर रह गई। एमए तक पढ़ाई करने के बाद क्लासिकल नृत्य में भी डिग्री हासिल की। घर परिवार में व्यस्थ रहने के बाद कुछ करने की तमन्ना थी। भिलाई में पहली बार स्टील सिटी ब्यूटी कांटेस्ट में भाग लेने का मौका मिला। यहां पर मिसेज क्वीन का खिताब जीतने के बाद काफी आत्मविश्वास आया और अदा मिसेज इंडिया में भाग लिया। किस्मत ने यहां भी साथ दिया और प्रतियोगिता में जीत मिली।

कत्थक में पारंगत, बच्चों को भी दे रही सीख

अदा मिसेज इंडिया क्लासिक दीपा मेश्राम कत्थक नृत्य में काफी पारंगत है। वे अपने घर पर गरीब बच्चों को नि:शुल्क प्रशिक्षण भी दे रही हैं। दीपा का कहना है कि छत्तीसगढ़ को इंटरनेशनल लेवल पर रिप्रजेंट करना मेरा सपना है। एक हाऊस वाईफ  को मंच प्रदान करने का प्रयास कर रही हूं। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में मिसेज छत्तीसगढ़ नाम से प्रतियोगिता कराने का विचार है। जहां प्रदेश भर की प्रतिभावान महिलाओं को एक मंच मिलेगा। ऐसी महिलाएं जिनमें प्रतिभा है सुंदरता है लेकिन परिवार में व्यस्थता के कारण बाहर नहीं निकल पाती उनके लिए एक प्लेटफार्म के तहत मिसेज छत्तीसगढ़ प्रतियोगिता का आयोजन करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *