बस्तर संभाग के केशकाल में सबसे अधिक जब्ती प्रकरण दर्ज

अबतक 465 किलो धान और 182 किलो मक्का जप्त

केशकाल । उपार्जन केंद्रो में धान खरीदी प्रारंभ होते ही फुटकर व्यापारी व थोक व्यापारियों द्वारा स्टॉक से अधिक धान खरीदी किया जाता है जिस पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व धनन्जय नेताम के निर्देशन में मंडी सचिव सुरेश कुमार सिंह, उपनिरीक्षक धनीराम नेताम,खाद्य निरक्षक गुलशन ठाकुर के द्वारा लगातार हाट ,बाजारों में निरीक्षण किया जा रहा है । जहां फुटकर व्यापारियों द्वारा स्टॉक लिमिट से अधिक रखने पैट मंडी विभाग द्वारा निरीक्षण कर अधिक पाए जाने पर कार्रवाई कर रहे हैं ।
मंडी अधिकारी ,कर्मचारियों एवं खाद्य निरीक्षकों के द्वारा सतत रूप से कोचिंग बिचौलियों एवं अवैध व्यापार करने वालों के विरुद्ध जब्ती प्रकरण पंजीबद्ध की जा रही है वही कई फुटकर व्यापारी बिना नवीनीकरण किए ही धान खरीदी कर रहे हैं उनके ऊपर भी मंडी एक्ट के तहत कार्रवाई की जा रही है।
इसी तरह अब तक कृषि उपज मंडी में 42 प्रकरण लिपिबद्ध किया गया है जिनके ऊपर छत्तीसगढ़ राज्य कृषि उपज मंडी अधिनियम 1972 की धारा 2 में परिभाषित (डड) निर्धारित मापदंड से अधिक राय तथा धारा 6,31,23 एवं 36,37 के प्रावधानों के तहत पंजीबद्ध किया गया व अधिनियम की धारा 19(4) व धारा 53 के तहत कार्रवाई संस्थित की गई । केशकाल उपज मंडी के सचिव सुरेश कुमार सिंह ने बताया कि पिछले वर्ष 49 प्रकरण पंजीबद्ध किया गया जो बस्तर संभाग में सबसे अधिक था और इस वर्ष भी पूरे बस्तर संभाग में सबसे अधिक केशकाल में ही 42 प्रकरण दर्ज किया गया है जो अभी और बढ़ सकता है पूरे कोंडागांव जिला में अब तक 77 प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है । अब तक 465 किलो धान और 182 किलो मक्का जप्त तक की गई है ।

सबका संदेस ब्यूरो, कोंडागांव 9425598008

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *