बेमेतरा=साजा विधानसभा क्षेत्र में अवैध ईट भट्टों से ग्रामीण परेशान

संजु जैन सबका संदेश ब्यूरो बेमेतरा


जल स्तर गिरा,पर्यावरण हुआ प्रदूषित

बंद करने कलेक्टर व खनिज अधिकारी को दिया आवेदन*
बेमेतरा(थानखम्हरिया)=तहसील मुख्यालय से लगी ग्राम कुरदा, उमरावनगर,गातापार व कोपेडबरी मे तेंदुवा नयापारा एव बीजा पंचायत में अवैध ईट अवैध ईट भट्टों के संचालन से कृषक व ग्रामीण परेशान है,प्रतिवर्ष बाहरी प्रदेश से आये हुए लोगो द्वारा असंख्य ईट भट्टों से ग्राम का स्तर घटते जा रहा है जिससे कृषि उपयोग हेतु पर्याप्त पानी नही मिल पा रहा है वही गर्मी के दिखने मे तापमान बढ जाता है जिससे ग्रामीण हलाकान रहते है।पिछले कई वर्षों से लगातार ग्रामीणो की शिकायत के बावजूद ग्राम सरपंच एवं पंच दर्रा बगैर पंचायत प्रस्ताव के कोरे कागज मे विद्युत् लगाने अनापत्ति प्रमाण पत्र दे दिया गया ईधर इन इन भट्टों के संचालक गलत एफीडेविट का सहारा लेकर विद्युत् विभाग से अस्थायी कनेक्शन लेकर पानी का दोहन भी कर रहे है।

आज ग्रामीणों ने कलेक्टर महादेव कावरे, खनिज अधिकारी,तहसीलदार,विद्युत अधिकारी व कृषि मंत्री तक को पत्र लिखकर संचालन बंद करने की मांग की है। पूर्व मे अनेकों शिकायत करने के बाद भी कार्रवाई नही होने से ग्रामीण थक चुके है पर अधिकारीगण इस ओर ध्यान नही दे रहे है।
ग्राम कुरदा,उमरावनगर,गातापार व कोपेडबरी मे बङी पैमाने पर ईट भट्टों से सैकङो एकङ कृषि भूमि अनुपजाऊ हो चला है,भट्टों की वजह से बढते तापमान से जैविक जीवाणु व केंचुए की नष्ट होने से उर्वरता शक्ति कमजोर हो चला है।इन ईट भट्टों मे बेधङक लङकी का उपयोग भी किया जा रहा है जिससे पेङो की उपलब्धता कम हुई है और पर्यावरण को भी प्रभावित किया है।ईधर कृषि अनुदान प्राप्त विद्युत कनेक्शन से अधिकारियों की संलिप्तता के चलते बोर पंपों का व्यवसायिक उपयोग भी बेखौफ़ किया जा रहा है।
अधिकांश ईट भट्टों के संचालक मध्यप्रदेश के रहने वाले है और फर्जी जाति प्रमाण पत्र के सहारे है जबकि पत्थर कोयला व रेत का उपयोग भी बगैर खनिज रायल्टी के इन भट्टों किया जा रहा है।

*400 फीट तक पहूंचा जल स्तर*
अवैध ईट भट्टों के संचालन से इन क्षेत्रों मे तापमान बढा है जिससे जल स्तर 400 फीट तक पहूंच गया है और कॄषि उपयोग के लिए पर्याप्त जल उपलब्ध नही हो पा रहा वही पेयजल की भी समस्या गर्मी के दिनों मे बढ जाती ही है।यहा की सभी हैण्डपंप बंद हो चुका है जिससे गांव मे निस्तारी संकट भी गहराता जा रहा है।

*पुलिस रिकार्ड मे नही बाहरी लोगो का नाम*
ऐसे बाहरी प्रदेश से व्यवसाय करने आने वालो का नाम पुलिस रिकार्ड मे नही होता है न ही मुसाफिर दर्ज कराई जाती है जिससे भविष्य मे होने वाले अनहोनी पर जवाबदेही कौन होगा,कुछ महीनों से नगर सहित आसपास के क्षेत्रों मे चोरीयो की वारदात बङी है फिर भी पुलिस ऐसे लोगो की तहकीकात की जरूरत नही समझती है,इन बाहरी लोग कभी भी बङी घटना का अंजाम देंगे तब किसकी जवाबदेही होगी।

*फर्जी जाति प्रमाण पत्र का उपयोग*
ईट भट्टी संचालक मध्यप्रदेश के और दुर्ग कलेक्टर कार्यालय से जाति प्रमाण पत्र भी जारी कर दिया गया है जिसका ये लोग़ बखूबी उपयोग कर रहे है।मध्यप्रदेश मे इन्हे अनुसूचित जाति के लोग कहलाते है और छ ग मे आकर कुम्हार जाती बन गये है,प्रदेश मे जाति प्रमाण पत्र बनाने 59 साल का मिश्र रिकार्ड मांगा जाता है और यहा दो चार साल के आने वालो को जाति प्रमाण पत्र लेनदेन कर धडल्ले से बांटा जा रहा है वो भी जांच का विषय है।

*सरपंच ने किया पद का दुरूपयोग*
ग्राम पंचायत उमरावनगर के सरपंच ने पंचायती राज अधिनियम की अवहेलना करते हुए बगैर ग्राम पंचायत के प्रस्ताव के कोरा कागज मे भट्टों के संचालकों के नाम ईट भट्टे मे अस्थायी विद्युत कनेक्शन हेतु अनापत्ति जारी कर पद का दुरूपयोग किया है जो धारा 40 को लागू करता करता है।
इस प्रकार ग्रामउमरावनगर,गातापार,कुरदा व कोपेडबरी के कृषक व ग्रामीण इन ईट भट्टों के अवैध संचालन से खासा परेशान होकर संबंधित अधिकारीयों से बंद करने की मांग की है वही ऐसा न होने पर उग्र आंदोलन की भी चेतावनी दी है।
=========
सबका संदेश ब्यूरो बेमेतरा = 8463812334 whatsapp no

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *